पोस्ट

Full-learn-Linux-in-hindi

चित्र
What is Linux:-

लाइनक्स एक लोकप्रिय ग्राफिकल यूजर इंटरफेस ऑपरेटिंग सिस्टम है यह एक स्वतंत्र पोर्टेबल  ऑपरेटिंग सिस्टम है, अतः इसको चलने के लिए किसी भी अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम की जरूरत नहीं होती है | जैसे विंडो ऑपरेटिंग सिस्टम में डॉट ऑपरेटिंग सिस्टम की जरूरत होती है परन्तु इसमें नहीं| इसमें वर्चुअल मेमोरी और मल्टीटास्किंग होता है अर्थात एक ही समय में कई कार्य कर सकते है जैसे म्यूजिक, टाइपिंग, प्रिंटिंग आदि की कार्य एक साथ किये जा सकते है अतः इसे मल्टि टास्किंग कहा जाता है |इसमें मेमोरी  मैनेजमेंट, फाइल मैनेजमेंट, नेटवर्किंग आदि सभी फीचर भी है| प्रारम्भ में इसे  लाइनस तोरवाल्डस ने बनाया था | प्रारम्भ में इसे सर्वर के लिए उपयोग किया जाता था |यह एक ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है इसमें लगभग वे सभी फीचर उपलब्ध है जो की युनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम मे होता है| यह टी.सी.पी./ आई. पी. प्रोटोकाल को भी सपोर्ट करता है|इसमें कमांड लाइन इंटरफेस एवं ग्राफिकल इंटरफेस दोनों  ही फीचर उपलब्ध  होते है| यूजर लॉगिन विंडो पर लॉगिन करते समय यूजर नेम और पासवर्ड के बिना लॉगिन नहीं किया जा सकता है जबकि विंडोज में यह अनिवा…

Interoduction-to-GUI-based-Operating-System-in-hindi

चित्र
Introduction: आपके कंप्यूटर पर चलने वाला ओपरेटिंग सिस्टम सबसे महत्वपूर्ण प्रोग्राम है| यह यूजर और कम्प्यूटर हार्डवेयर के मध्य एक मध्यस्थ का कार्य करता है|एक ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर में सिस्टम सॉफ्टवेयर प्रोग्राम्स का एक सेट होता है जो सिस्टम सॉफ्टवेयर प्रोग्राम द्वारा कंप्यूटर हार्डवेयर के उपयोग करने के ढंग एवं यूजर द्वारा कंप्यूटर को कण्ट्रोल करने के तरिके को नियंत्रित करता है | 

Basic of Operating System 
Operating System: ऑपरेटिंग सिस्टम अलग -अलग हार्डवेयर के पार्ट्स को आपस में जोड़ने के लिए सिस्टम सॉफ्टवेयर अर्थात एक ड्राइवर का कार्य करता है|साथ ही एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर के लिए प्लेटफार्म प्रदान करता है| जिस पर एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर चलता है|जो भी नए एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर या ड्राइवर इनस्टॉल किये जाते है सभी ऑपरेटिंग सिस्टम में  जुड़ते जाते है |ऑपरेटिंग सिस्टम ही कंप्यूटर को  यूजेबल बनता है | 

Types of Operating systems: समान्यतः कंप्यूटर के प्रकार के आधार पर ऑपरेटिंग सिस्टम को चार भागो में बता ज सकता है | 

Single User, Single task Single User Multi-tasking Multi User, Multi-task Real Time Oper…

Concept-of-Hardware-and-software-in-hindi

चित्र
Concept of  Hardware and software:-
Hardware



कंप्यूटर के सभी पार्ट जिन्हे हम देख सकते है एवं हाथो से छू भी सकते है, उन्हें हार्डवेयर  कहते है आधुनिक कंप्यूटर के हार्डवेयर जैसे- मदरबोर्ड, एसएमपीएस, वीडियो डिस्प्ले यूनिट, रेमोवेल मीडिया डिवासेज, सेकेंडरी स्टोरेज, साउंड कार्ड, की-बोर्ड, माउस, प्रिंटर एवं अन्य  उपकरण  है | 

A Computer (Personal Computer as desktop) contains the folowing parts: 

Motherboard:-यह कम्प्यूटर का मुख्य भाग होता है जहा सभी महत्वपूर्ण और  इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट्स जुडे होते है जैसे-Ram, Rom etc
Power supply:- पावर सप्लाई वोल्टेज को कंट्रोल और स्थानंतित करता है | 
Storage Controllers:-यह मदरबोर्ड पर स्थित स्टोरेज डिवाइसो जैसे- रैम, रोम, हार्ड, डिस्क, फ्लॉपी डिस्क और दूसरे ड्राइव को भी कण्ट्रोल करता है| 
Graphics Controllers:- यह मॉनिटर पर ग्राफ़िक्स आउटपुट प्रदान करता है | 

Software

सॉफ्टवेयर हमारे सिस्टम को कार्यशील बनता है|यह निर्देशों का एक सैंट होता है |सॉफ्टवेयर ही कंप्यूटर को इंटलीजेंस देता है तथा यूजर सॉफ्टवेयर पर ही कार्य करता है|सोफ्टवेयर दो प्रकार के होते है - सिस्टम…

Concept-of-data-Processing-in-Hindi

चित्र
Cocept of data Processing

What is Data / Information:- डाटा या इन्फोर्मशन किसी विषय के बारे में वो जानकारी है जो जिसे किसी ऑपरेशन में बतौर इनपुट के तौर पे इस्तमाल किया जा सकता है| डाटा या इन्फर्मेशन को बतौर इनपुट की तरह इस्तेमाल करने के लिए आवश्यक  हार्ड वेयर टूल कुछ इस प्रकार है - की - बोर्ड, माउस, लाइट पेन, टच स्क्रीन, जॉयस्टिक, ट्रक बॉल इत्यादि | 

Processing:- ये डाटा प्रोसेसिंग की मध्यावस्था है जहां इनपुट किये गए डाटा या  इनफार्मेशन पर उचित ऑपरेशन कर नियत आउटपुट परिणाम प्रदान करना है| किसी भी डाटा की प्रोसेसिंग के लिए जो आवश्यक  हार्डवेयर टूल इस्तेमाल होते है कुछ इस प्रकार है - ALU,CU & MU इत्यादि | 

Output:- यह इसका आखिरी पड़ाव है हम विभिन्न आउटपुट  डिवाइस के  माध्यम से अपने आउटपुट परिणाम जान सकते है |आउटपुट डिवाइस कुछ इस प्रकार है - प्रिंटर, मॉनिटर, स्पीकर, प्लॉटर, प्रोजेक्टर  इत्यादि | 

Application-of-IECT-and-What-is-E-Goveranance-in-hindi

चित्र
Applications of IECT (Information Electronics and communication Technology) 

अप्लीकेशन का मतलब इसके इस्तेमाल किये जाने वाले सेक्टर से है जैसे इसका इस्तेमाल बिसनेस में, घर पर संस्थाओ में, मेडिकल विज्ञानं में, इंजीनियरिंग विभाग में एवं  इंफ्रास्ट्रक्चर फील्ड में आर्किटेक्चर फील्ड या ड्राइंग तैयार करने के लिए होता है|
जबकि कोम्मुनिकेशन तकनीक का मतलब संचार व्यवस्था से है जिसमे एक व्यक्ति का दूसरे व्यक्ति से संपर्क या कम्युनिकेशन की जा सकती है| कम्युनिकेशन तकनीक के अनतर्गत आने वाले तथ्य कुछ इस प्रकार है - सेल फ़ोन, इंटरनेट, रेडियो, टेलीविजन एवं सेटेलाइट इत्यादि|

What is E-Governance:-
ई - गवर्नेंस मॉडर्न सूचना और संचार तकनीक जैसे इंटरनेट, लोकल एरिया नेटवर्क्स,मोबाइल्स आदि का एक एप्लिकेशन है  जो सरकार द्वारा इन्हे अधिक प्रभावी बनाने कुशलता बढ़ाने, सर्विस डिलीवरी को कारगर बनाने में एव डेमोक्रेसी को प्रोमोट करने  लिए तैयार किया गया  है |ई - गवर्नेंस के प्राइमरी डिलीवरी मॉडल्स को निम्नलिखित रूप से विभाजित किया जा सकता है| 
The primary delivery models of e-Governance can divided into: 

Government-to…

What-is-Printer-and-types-in-hindi

चित्र
What is Printer:-
प्रिंटर एक आउटपुट डिवाइस है जो कंप्यूटर से डाटा प्राप्त क्र उसका आउटपुट Hard copy के रूप में प्रिंट करता है प्रिंटिंग क्वालिटी को डॉट पैर इंच (DPI) में नापा जाता है| प्रिंटर दो प्रकार का होता है|

Impact Printer:-इम्पैक्ट प्रिंट यह वह प्रिंटर  है जो की प्रिंट करते समय हैमर करके इम्प्रेशन बनता है जैसे - डॉटमैट्रिक्स  प्रिंटर,  लाइन प्रिंटर  आदि|

Dot Matrix:- डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर इम्पैक्ट प्रिंटर का एक प्रकार होता है| जो एक रिब्बन पर पिन से स्ट्राइक कर करैक्टर प्रिंट करता है| इसमें प्रत्येक पिन एक डॉट छोड़ती है और इन डॉट के कॉम्बिनेशन से कोई अक्षर या आकार बनता है| प्रत्येक करैक्टर को छपने के लिए बहुत डॉट की जरूरत होती है| डॉट मेट्रिक प्रिंटर अब ज्यादा एस्तेमाल नहीं होता है इसका इस्तेमाल केवल वही होता है जहां अत्यधिक मात्रा में पेज प्रिंट करने होते है|
Non-Impact Printer:- नॉन-इम्पैक्ट प्रिंटर जो की बिना हैमर किये प्रिंट करता है जैसे इंकजेट प्रिंटर एवं लेज़र जेट प्रिंटर सचित्र प्रिंटर की विस्तृत चर्चा नीचे की गयी है|

Inkjet Printer:- इंक जेट प्रिंटर इसमें जेट के माध्यम से आयन…

What-is-Computer-memory-and-types-in-hindi

चित्र
Computer memory


कम्प्यूटर  की मेमोरी ही कम्प्यूटर एवं कैलकुलेटर में अंतर बताती है| कम्प्यूटर  के अंदर डाटा स्टोर मेमोरी के अंदर होता है|फिजिकल मेमोरी जो की चीप ड्राइव / डिस्क होती है  जिसमे डाटा होल्ड होता है|वर्चुअल मेमोरी जोकि सिर्फ फिजीकल मेमोरी को एक्सपैंड करता है|कंप्यूटर मेमोरी दो तरह की होती है एक प्राइमरी मेमोरी जोकी कम्प्यूटर के अंदर मेंन मेमोरी कहलाती है ये दो प्रकार की होती है और दूसरी सेकेंडरी मेमोरी जैसे हार्ड डिस्क,ऑप्टिकल डिस्क,
 फ्लॉपी डिस्क इत्यादि|

The term memory can be categorized in two ways

Primary Memory Secondary Memory
Primary Memory:-प्राइमरी मेमोरी कंप्यूटर सिस्टम की मेंन मेमोरी होती है जो सिस्टम के प्रथमीक कार्य के लिए मेमोरी उपलब्ध कराते है जैसे Ram और  Rom |

Secondry memory:- सेकेंडरी मेमोरी जो की डाटा को स्टोर करने के लिए होती है जिसमे डाटा को स्टोर  करते है बाद में इसमें सेव डाटा का उपयोग किया जाता है जैसे हार्ड डिस्क ड्राइव|  मैग्नेटिक टेप, जीप ड्राइव आदि|

Primary memory (RAM- Random Access Memory)
यह रीड राइट मेमोरी होती है इसमें डाटा टेम्पररी होता है यदि …